कुछ यादें गुज़रे हुए पलों की .......

Muktak

शाख की पत्तियां तक अब तो शोर करने लगी हैं ,
मौसम लगता है इश्क का आने वाला है,
जुगनुओं के चमकने का अंदाज़ कुछ और ही है अब,
धीरे बोलो ऐ परिंदों, लगता है कोई अब आने वाला है।।

2 comments:

  1. kya batau me tumhe ki mera hal kya h tere na hone par
    koi khushi nahi h ab to mere daman me ,tere na hone par
    ghar ki har divar teri kahkasi ko beekrar h
    mere ghar ko aane vali har rah ko tera intjar h ......
    mene har khaayal saza rakha h mera ,teri bato ko yad karke
    me hamesa jikra kiya karta hu teri khoobsurti ka ....naye foolo ko
    ab har naya fool or kali betab h tere aane par

    ReplyDelete

Google+ Followers